बिहार के शिक्षा मंत्री कौन है?

 यदि आप जानना ,चाहते हैं कि बिहार के शिक्षा मंत्री कौन हैं ? लीजिये हम आपको बता देते हैं कि इस वक्त यानी वर्ष 2021 में बिहार के शिक्षा मंत्री श्री विजय कुमार चौधरी जी हैं | श्री विजय कुमार चौधरी जी बिहार के नए शिक्षा मंत्री 2021  के रूप में कार्यरत हैं | इन्हें श्री मेवालाल चौधरी जी के बाद नियुक्त किया गया है | क्योंकि मेवालाल चौधरी जी ने अपने कार्यकाल के कुछ समय के बाद ही अपने  कुछ निजी कारणो की वजह से अपने पद से इस्तीफा दे चुके थे  | इसीलिए श्री विजय कुमार चौधरी जी को उनकी जगह नियुक्त किया गया है | विजय जी जनता दल यूनाइटेड पार्टी के सदस्य है | बिहार सरकार के शिक्षा विभाग की जिम्मेदारी इन्हे सौंपी गई है | और वर्तमान में यह बिहार के वर्ष 2021 के शिक्षा मंत्री के पद पर तैनात हैं |

विजय कुमार चौधरी जी को नीतीश कुमार सरकार के साथ बीजेपी सरकार के गठबंधन में शिक्षा मंत्री नियुक्त गया है | हाल वर्तमान में यह बिहार में शिक्षा मंत्री के रूप में 2020 से  कार्यरत हैं | हम आपको बता देना चाहते हैं, कि इनकी नियुक्ति श्री मेवालाल चौधरी जी के बाद हुई है |श्री मेवा लाल जी शुरू में अच्छा कार्य कर रहे थे, लेकिन इन्हें कुछ पर्सनल शिकायतों और परेशानियों का सामना करना पड़ा | जिसकी वजह से उन्होंने बिहार के शिक्षा मंत्री के रूप में त्यागपत्र दे दिया था | इसके बाद ही विजय कुमार चौधरी जी  की नियुक्ति बिहार के शिक्षा मंत्री के रूप में की गई है

बिहार के शिक्षा मंत्री कौन है?

हम आपको बताना चाहते हैं कि बिहार सरकार भारत के आजादी के बाद से शिक्षा के लिए निरंतर प्रयास कर रही है, तथा जब बिहार में शिक्षा से जुड़े क्षेत्रों में शिकायतें आने लगी, तो  सन 1985 में बिहार सरकार मंत्रालय में शिक्षा मंत्रालय का गठन किया और शिक्षा के महत्व को स्थान देते हुए 26 सितंबर 1985 को 174 वे संविधान संशोधन के अनुसार शिक्षा मंत्रालय का गठन किया तथा बिहार में शिक्षा मंत्री के रूप में तैनाती की जाने लगी |

श्री विजय कुमार चौधरी जी ने जब शिक्षा मंत्री के रूप में अपना कार्य पद संभाला, तब उन्होंने अपने कुछ प्राथमिकताएं भी तय कर दी थी, जो उनके समक्ष चुनौतियों के रूप में खड़ी थी | उन्होंने कहा कि एक शिक्षा मंत्री का सबसे बड़ा और मुख्य कारण है राज्यों में शिक्षकों की नियुक्ति करना, क्योंकि ऐसा माना जाता है कि बिहार शिक्षा के रूप में पिछड़ा हुआ राज्य है | इसीलिए उन्होंने सबसे पहले 12वीं कक्षा तक 1.25 लाख शिक्षकों की नियुक्ति की | उन्होंने यह भी कहा कि हम शिक्षकों के लिए अधिक से अधिक सुविधा पूर्ण माहौल बनाने का कार्य करेंगे, जिससे वह बच्चों को अधिक से अधिक शिक्षित और गुणवान बनाने की कोशिश की जा सके | हमें विद्यालय के महलों को भी सुरक्षित और बेहतर बनाना चाहिए तथा शिक्षकों स्तर ऊंचा उठाना चाहिए |

 अपने एक इंटरव्यू में श्री विजय कुमार चौधरी जी ने पत्रकारों से यह भी कहा, कि प्राथमिक स्कूल से लेकर उच्च शिक्षा तक बिहार में प्राचीन काल में चली आ रही शिक्षा नीति को दोबारा से प्रसारित किया जाएगा, और पटना विश्वविद्यालय की पहचान वापस से लाई जाएगी , इसीलिए उन्होंने कहा कि हम अब योग्य से योग्य शिक्षकों को नियुक्त करेंगे और जो योग्य शिक्षक हैं, उन्हें योग्य बनाएंगे | श्री विजय कुमार चौधरी जी ने यह भी कहा कि उनकी प्राथमिकता सरकारी स्कूलों को प्राइवेट स्कूलों से बेहतर बनाने की भी होगी | लोगो से ये भी गुजारिश की, कि  वे सरकारी स्कूलों में जाएं और अधिक से अधिक अपने बच्चों का दाखिला कराएं | इसके अलावा उन्होंने यह भी बताया कि बिहार सरकार में रहते हुए उन्होंने सरकार से अनुरोध किया है, कि बिहार में शिक्षा बजट को और अधिक बढ़ाया जाए | जिससे  शिक्षकों को सही समय पर वेतन मिल सके शिक्षा के क्षेत्र में अधिक से अधिक नीतियां बनाकर उन्हें लागू किया जाए, और शिक्षा की गुणवत्ता को अच्छा बनाने के लिए जो भी आवश्यक कार्य होंगे उन पर ध्यान दिया जाए | इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि हमारी प्राथमिकता स्कूल कॉलेजों की उपस्थिति बढ़ाना है | अधिक से अधिक स्कूल कॉलेज खोलना है तथा जो बच्चे स्कूल छोड़ कर जा चुके हैं ,उनके लिए भी स्कूल को सुविधाएं योग्य बनाना है ताकि बच्चे वापस स्कूल में आकर के अपनी पढ़ाई चालू कर सकें |

 कोरोना काल में भी श्री विजय कुमार चौधरी जी ने अपने कुछ प्राथमिकताएं तय है कि, जैसे सरकारी स्कूलों को प्राइवेट स्कूलों से बेहतर बनाना शिक्षक बच्चों को अपने ज्ञान का हंड्रेड परसेंट दें तथा करो ना काल में हुई बाधित पढ़ाई की भरपाई करें |  शिक्षक संस्थानों को पुराने रूप में वापस लाना और शिक्षकों के लिए सुविधा पूर्ण माहौल बनाना |

श्री विजय कुमार जी के बारे में अन्य जानकारियां

विजय कुमार जी जनता दल यूनाइटेड पार्टी के वरिष्ठ नेता के रूप में कार्यरत है, तथा उन्होंने 1982 से 1995 तक फिर नवंबर 2010 से 2015 तक अथवा 2015 से 2020 तक विधानसभा सदस्य के रूप में कार्य किया है |  वर्ष 2020 में इन्होंने आम विधानसभा चुनावों में सराय रंजन से चुनाव जीता |  इन्होंने कई विभागों में मंत्री के रूप में कार्य किया है | यदि चुनाव आयोग की माने तो श्री विजय कुमार चौधरी जी की कुल संपत्ति 2.1 करोड रुपए की है जिसमें 1.8 करोड़ की चल संपत्ति और 1.4 करोड़ की संपत्ति उपलब्ध है|

श्री विजय कुमार चौधरी जी का जन्म 8 जनवरी 1957 को हुआ था | इनके पिता का नाम श्री जगदीश प्रसाद चौधरी है | जिनका स्वर्गवास हो गया है | श्री विजय कुमार चौधरी जी दलसिंहसराय डिस्टिक समस्तीपुर के रहने वाले हैं , तथा फिलहाल यह राजीव नगर पटना में अपने निवास स्थान में रह रहे हैं | इनकी शिक्षा स्नातक और स्नातकोत्तर है, तथा इन्होंने पटना यूनिवर्सिटी से अपना स्नातक संपूर्ण किया है श्री विजय कुमार चौधरी जी के पिता कांग्रेस दल के नेता के रूप में स्वतंत्रता सेनानी भी थे | श्री जगदीश प्रसाद जी ने लगातार तीन दलसिंहसराय विधानसभा के विधायक के पद पर कार्य किया, और 1982 में इनका स्वर्गवास हो गया था | पिता की मृत्यु के बाद श्री विजय कुमार चौधरी जी ने 1982 में अपने पिता के खाली विधानसभा सीट को पाने के लिए कांग्रेस पार्टी के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था | वर्ष  2005 में इन्होंने जनता दल यूनाइटेड कांग्रेस पार्टी के नाम से अपनी पार्टी का नामकरण किया |

 श्री विजय कुमार चौधरी जी को वर्तमान समय के बिहार के मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार जी के बहुत ही करीबी नेताओं में से एक माना जाता है |  उन्होंने बिहार के शिक्षा मंत्री के रूप में अब तक बहुत सारे अच्छे कार्य भी किए हैं | श्री विजय कुमार चौधरी जी बिहार के 25 शिक्षा मंत्री के रूप में कार्यरत हैं | इसके अलावा उन्होंने जल संसाधन मंत्री कृषि मंत्री जैसे कार्यालयों में भी मंत्री के रूप में कार्य किया है, तथा इन्हें बिहार विधानसभा में स्पीकर के रूप में भी चुना गया था |

बिहार के प्रथम शिक्षा मंत्री कौन थे ?

आचार्य बद्रीनाथ वर्मा जी जो कि भारत के महान शिक्षाविदों में से एक थे अथवा विद्यालय के प्रधानाचार्य पत्र का और स्वतंत्रता सेनानी थे | जिन्होंने हिंदी में साहित्य में भी अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया था इनके कार्यों को देखते हुए ही बिहार सरकार ने प्रथम बार श्री आचार्य बद्रीनाथ जी को भारत के बिहार राज्य के प्रथम शिक्षा मंत्री के रूप में नियुक्त किया था | इनका जन्म 1802 में बिहार के पटना राज्य में हुआ था |

 श्री आचार्य बद्रीनाथ वर्मा जी के पिता का नाम काली चरण वर्मा था ,तथा इनकी मृत्यु 1972 में कैंसर की बीमारी से हुई थी | इसके बाद बिहार के दूसरे शिक्षा मंत्री बनने का सौभाग्य श्री सत्यनारायण सिन्हा जी को हुआ जो कि कांग्रेस पार्टी के सदस्य थे इन्होंने बिहार शिक्षा मंत्री के रूप में 18 फरवरी 1961 को पद ग्रहण किया था तथा इनका कार्यकाल 5 मार्च 1967 को खत्म हो गया था |

 बिहार के  24वें  शिक्षा मंत्री कौन थे ?

श्री कृष्ण नंदन प्रसाद वर्मा जी बिहार के 24वें मंत्री हैं जिन्होंने वर्ष 2017 से 2020 तक बिहार सरकार के 24 शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया है | श्री कृष्ण नंदन प्रसाद वर्मा जी घोसी विधानसभा क्षेत्र के विधायक भी रह चुके हैं | उन्होंने 29 जुलाई 2017 को बिहार के शिक्षा मंत्री के रूप में कार्यकाल ग्रहण किया था | इसके अलावा उन्होंने वर्ष 2020 में जहानाबाद विधानसभा से चुनाव लड़ा था जहां पर इन्हें हार का सामना करना पड़ा था |

बिहार के 23 वे मुख्यमंत्री कौन है ?

श्री अशोक चौधरी जी बिहार के तेजस्वी शिक्षा मंत्री के रूप में कार्यरत थे | उन्होंने वर्ष 2014 से 2020 तक बिहार के विधानसभा कार्यकर्ता के रूप में कार्य किया | यह कांग्रेस पार्टी के सदस्य थे वर्ष  2000 से 2018 तक कांग्रेस पार्टी के सदस्य के रूप में इन्होंने कार्य किया इसके बाद इन्होंने कांग्रेस पार्टी को छोड़कर के जनता दल यूनाइटेड ग्रहण कर लिया  |

 अब हम आपको यहां पर बिहार के सभी शिक्षा मंत्रियों के बारे में बताना चाहते हैं, क्योंकि कई बार बहुत सारी प्रवेश परीक्षाओं में आपसे यह प्रश्न पूछे जा सकते हैं | इसलिए आपको यह अवश्य ही पता होना चाहिए कि अब तक तथा किस समय में कितने समय तक किस मंत्री ने बिहार के शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया है | सूची इस प्रकार है |

नाम पद ग्रहण पद त्याग मुख्यमंत्री
श्री आचार्य बद्रीनाथ वर्मा  श्री  कृष्णा सिंह
श्री  सत्येंद्र नारायण सिंहा 1961 1963 
श्री  सत्येंद्र नारायण सिंहा 1963 1967श्री  के बी सहाय
श्री कपूरी ठाकुर 1967 1968श्री  महामाया प्रसाद सिन्हा
श्री  सतीश प्रसाद सिंह 1968 1968 श्री  सतीश प्रसाद सिंह
श्री डॉ राम राज सिंह 1969 1972श्री  कपूरी ठाकुर
श्री  बिंदेश्वरी दुबे 1973 1973श्री  केदार पांडे
श्री  विद्या कर कवि 1973 1973श्री  अब्दुल गफूर
श्री   रामराज सिंह 1973 1977श्री  जगन्नाथ मिश्रा, अब्दुल गफ्फार
श्री  नसीरुद्दीन हैदर खान 1980 1981श्री  जगन्नाथ मिश्रा
श्री  करमचंद भगत 1981 1983श्री  जगन्नाथ मिश्रा
श्री  नागेंद्र झा 1983 1985श्री  चंद्रशेखर सिंह
श्री   उमा दुबे  श्री  बिंदेश्वरी दुबे
श्री  लोकनाथ झा  श्री  बिंदेश्वरी दुबे
श्री नागेंद्र झा 1988 1989श्री  भगत झा आजाद
श्री  डॉ दिवाकर  प्रसाद सिंह 1996 1996श्री  लालू प्रसाद यादव
श्री  जयप्रकाश नारायण यादव 1999 2000 श्रीमती राबड़ी देवी
श्री  राम लखन राम रमन  2001 2004 श्रीमती राबड़ी देवी
श्री  वृषण पटेल 2005 2000 श्री नीतीश कुमार जी
श्री हरि नारायण सिंह 2008 2010 श्री नीतीश कुमार जी
 श्री प्रशांत कुमार शाही 2010 2014 श्री जीतन राम मांझी
श्री अशोक चौधरी 2015 2017 श्री नीतीश कुमार जी
 श्री कृष्ण नंदन प्रसाद वर्मा 2017 2020 श्री नीतीश कुमार जी
 श्री विजय कुमार चौधरी 2020 2020 से अब तक श्री नीतीश कुमार जी

क्या है शिक्षा मंत्री के प्रमुख  कार्य ?

 बिहार में शिक्षा मंत्री का प्रमुख कार्य होता है | शिक्षा के स्तर को बढ़ाना यानी राज्य का हर एक व्यक्ति हर एक नागरिक और एक बच्चा शिक्षित होना चाहिए ,और जब राज्य का प्रत्येक बचाया व्यक्ति शिक्षित होगा तभी देश राष्ट्र अथवा राज्य आगे बढ़ पाएगा, और खुशहाल हो पाएगा इसीलिए हम आपको यहां पर बता रहे हैं कि शिक्षा मंत्री के प्रमुख कार्य कौन से होते हैं|

  •  प्राइमरी शिक्षा के विकास पर ध्यान देना |
  •  उच्च शिक्षा के विकास कार्यों के लिए नीतियां बनाना |
  •  माध्यमिक शिक्षा के लिए कार्य करना |
  •  उच्च शिक्षा के लिए कार्य करना |
  •  सार्वजनिक शिक्षा के लिए कार्य करना |
  •  शोध एवं प्रशिक्षण के लिए अधिक से अधिक नीतियां बनाना |
  •  योजना निदेशालय के लिए कार्य करना |
  •  गरीब एवं मध्यम वर्ग के बच्चों के लिए मध्याह्न भोजन के लिए कार्य करना |

अब हम आपको यहां पर बिहार के शिक्षा मंत्री से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण सवालों के बारे में बता रहे हैं | जिससे आप बिहार के शिक्षा मंत्री के बारे में अथवा उसके पद के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त कर पाएंगे |

बिहार के शिक्षा मंत्री की वेतन कितनी होती है ?

 बिहार के शिक्षा मंत्री का वेतन मान 2250 रुपए से शुरू हुआ था लेकिन वर्ष 2010 तक बढ़कर ₹3500 प्रतिमाह कर दिया गया |

2021 में बिहार के वर्तमान शिक्षा मंत्री का क्या नाम है ?

 वर्तमान 2021 में बिहार के शिक्षा मंत्री का नाम श्री विजय कुमार चौधरी जी है |

 बिहार सरकार के सबसे पहले शिक्षा मंत्री कौन थे ?

 बिहार सरकार के सबसे पहले शिक्षा मंत्री श्री आचार्य बद्रीनाथ वर्मा जी थे जो कांग्रेस पार्टी के सदस्य थे तथा वे स्वतंत्रता सेनानी भी रह चुके थे |

 वर्ष 2019 में बिहार के शिक्षा मंत्री कौन थे ?

 वर्ष 2019 में बिहार के शिक्षा मंत्री श्री कृष्ण नंदन प्रसाद वर्मा जी थे जिन्होंने बिहार सरकार में वर्ष 2017 से 2020 तक शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया था

Leave a Comment