Nokia किस देश की कंपनी है?

आपको याद होगा कि आपने बचपन में एक छोटा सा कुछ नंबर और alphabet वाला फोन देखा होगा जिसका स्क्रीन बहुत छोटा होता था | इस फोन की खासियत यही थी कि इसे कितना भी गिरा दो पटक दो, तभी भी वह फोन बहुत अच्छे से काम करता था | इस फोन की खासियत यह थी, कि इसमें कभी भी नेटवर्क खराब नहीं आते थे और एक परसेंट बैटरी होने पर भी लगभग 48 घंटे चल जाता था | तो हम आपको आज  इसी फोन की निर्माता कंपनी नोकिया के बारे में बताने जा रहे हैं, कि नोकिया किस देश की कंपनी है तथा नोकिया कंपनी का मालिक कौन है ?

नोकिया कंपनी के बारे में हम आपको बता रहे हैं कि ,नोकिया फिनलैंड की स्मार्टफोन निर्माता कंपनी है इस कंपनी का मुख्यालय फिनलैंड की राजधानी है | नोकिया कंपनी का मुख्यालय फ़िनलंड के एसप्रे मे स्थित है | नोकिया वायर्लेस और तार वाले संचार के माध्यम से काम करती है |

नोकिया कंपनी का संक्षिप्त विवरण |

 हम आपको बताना चाहते हैं, कि नोकिया मोबाइल मैं पिछले कई वर्षों से मोबाइल की दुनिया में राज किया है इसके बनाए गए फोन दुनिया के सबसे बेहतरीन फोन में से एक है, और यह फोन कीमत के साथ साथ मजबूत क्वालिटी के साथ भी बाजार में उपलब्ध थे | हाल ही में इसे माइक्रोसॉफ्ट कंपनी द्वारा खरीद लिया गया है |

नोकिआ में लगभग 112262 कर्मचारी है जो  दुनिया के लगभग 120 देशों में अलग-अलग काम करते हैं, तथा नोकिया कंपनी का व्यापार लगभग 150 देशों में फैला हुआ है ,तथा इसकी वैश्विक आए लगभग 51.1 बिलीयन यूरोस है | इसके अलावा 2007 में इसमें केवल नोकिया के फोन बेच कर 8 मिलीयन यूरो कमाए थे | नोकिया बाजार की सबसे ज्यादा कीमत 2008 में दर्ज की गई थी |

 दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल निर्माता कंपनी |

 जी हां आपको जानकर हैरानी होगी कि नोकिया  विश्व की सबसे बड़ी मोबाइल निर्माता कंपनी है | यह कंपनी अपने अलग-अलग प्रोटोकॉल के तहत नोकिया मार्केट सीडीएमए फोन बनाती है | इसके अलावा यह  जीएसएम और सीडीएमए फोन भी बनाती है | नोकिया C9 के साथ काम करती है जो कि नेटवर्क मार्केट से जुड़े जरूरी उपकरण सुविधाएं और सेवाएं प्रदान करती है | यदि हम उपभोक्ताओं की माने तो नोकिया मोबाइल दुनिया के सबसे मजबूत मोबाइल में से एक माना जाता है |

क्या है नोकिया मोबाइल का इतिहास?

 नोकिया मोबाइल की स्थापना 1865 में दक्षिण पश्चिम में फिनलैंड के टिमपोरे शहर में हुई थी  | इसकी शुरुआत हुई थी तब यह एक लकड़ी की लुगदी बनाने वाली कंपनी थी | जिसका इस्तेमाल कागज बनाने के लिए किया जाता था बाद में इस कंपनी ने अपनी कंपनी को नोकीनवीरदा नदी के पास नोकिया में शिफ्ट कर लिया इसी वजह से इस कंपनी का नाम नोकिया पड़ा |

नोकिया कंपनी मोबाइल क्षेत्र में कब आई ?

1960 के दशक में नोकिया मोबाइल कंपनी ने मिलिट्री मोबाइल रेडियो टेक्नोलॉजी बनाने शुरू किया  था  | इसके बाद सन् 1971 में इसने सलोरा के साथ गठबंधन करके मोबाइल बनाना शुरू किया | आप जानते ही होंगे कि नोकिया दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल उत्पादक कंपनी है, लेकिन 27 अप्रैल को सैमसंग कंपनी की वजह से नोकिया कंपनी को अपनी उपलब्धि खोनी पड़ी |

नोकिया कंपनी के निर्माता और अध्यक्ष कौन थे?

 नोकिया फोन लगभग कई दशकों तक अपने उपभोक्ताओं के दिलों पर राज करता रहा है, तथा हाल ही में यह कंपनी किसी अन्य मोबाइल निर्माता कंपनी के द्वारा खरीद ली गई है | हम आपको बताना चाहते हैं कि नोकिया मोबाइल कंपनी के संस्थापक फ़्राडरिक ईडेस्तां , लियो मेकिकिल्न और एडवर्ड पोलोन थे |

नोकिया कंपनी की शुरुआत ?

 नोकिया कंपनी की शुरुआत 1871 मे फ़्राडरिक ने अपने दोस्त लियो के साथ मिलकर NOKIA AB  के नाम से की थी | आगे चलकर इस कंपनी ने 1922 में अलवर के नाम से दो इलेक्ट्रॉनिक कंपनियां खोल दीं | जो की रबड़ की केबल बनाती थी | इसके कुछ सालों बाद 1967 में और तीनों कंपनी ने मिलकर के नोकिया कॉरपोरेशन की स्थापना की |

नोकिया कंपनी के बारे में अन्य जानकारियां |

 नोकिया कॉरपोरेशन ने साल 1970 में नेटवर्किंग और रेडियो इंडस्ट्री की शुरुआत की यह कंपनी फिनलैंड के आर्मी क्षेत्र के लिए रेडियो के उपकरण बनाते थे |  धीरे-धीरे इसने रेडियो मार्केट में अपनी एक पहचान बना आगे चलकर 1990 में नोकिया ने अपनी तीन और कंपनियां बनाए | जिसके बाद 1984 में सलोरा नामक कंपनी की स्थापना की | इसके बाद 1985 में कंप्यूटर बनाने वाली कंपनी को खरीद लिया तथा 1987 में और अपने नाम की टीवी कंपनी को भी नोकिया कंपनी के द्वारा खरीद लिया गया | बाद में नोकिया कंपनी ने टेलीविजन बनाने में महारत हासिल कर ली और यह दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी टेलीविजन निर्माता कंपनी बन गई |

 नोकिया कंपनी से जुड़ी कुछ बातें |

 नोकिया कंपनी ने अपना पहला मोबाइल फोन साल 1982 में उतारा जिसका नाम मोबेरसिटी था |  इसके बाद नोकिया कंपनी ने 1990 में सिविल कंपनी के साथ मिलकर पहला जीएसएम नेटवर्क बनाया और अपना पहला जीएसएम call  फिनलैंड देश के प्रधानमंत्री  को 1 जुलाई 1991 को किया | इसके बाद ही नोकिया ने धीरे-धीरे पूरी दुनिया में मोबाइल नेटवर्क चलाना शुरु कर दिया था |

नोकिया कंपनी के नुकसान |

 हाल ही में नोकिया कंपनी के अध्यक्ष द्वारा एक बयान दिया गया | जिसमें उन्होंने कहा कि हम दुनिया के साथ कदम से कदम मिलाकर नहीं कर पाए तथा हमने टेक्नोलॉजी को पूरी तरह से नकार दिया था |यदि नोकिया कंपनी टेक्नोलॉजी के साथ आगे बढ़ते तथा समय रहते अपने उपकरणों में और अपने काम करने की नीति में बदलाव लाती तो हो सकता है | आज मन ना होते आपको यह जानकर हैरानी होगी कि पिछले कुछ ही दिनों पहले नोकिया कंपनी भेज दी गई है |

 नोकिया कंपनी को टक्कर देने के लिए अब बाजार में एप्पल और सैमसंग जैसी कंपनियां टक्कर देने के लिए बाजार में एप्पल और सैमसंग जैसी कंपनियां आ गई, जो अपने ग्राहकों को स्मार्ट क्वालिटी स्मार्ट फीचर इत्यादि प्रदान करने लगी और यह ग्राहकों को लुभाने भी लगे धीरे-धीरे लोगों को नोकिआ मोबाइल की तरफ रुझान कम हुआ और कंपनी को लगातार घाटे होने लगे | यही कारण है कि नोकिया कंपनी धीरे-धीरे बाजार से गायब होने लगी और इस कंपनी को माइक्रोसॉफ्ट की कंपनी द्वारा खरीद लिया गया है|

हम उम्मीद करते हैं कि हमने आपके यहां पर 9:00 के मोबाइल से जुड़ी सभी जिज्ञासाओं को शांत किया है इसके अलावा यदि आपके कोई सवाल है तो वह आप हमारे लिए यहां पर छोड़ सकते हैं अथवा आपके सुझावों का भी हमें इंतजार रहेगा |

Leave a Comment