विशेषण के कितने भेद होते हैं ?

विशेषण के कितने भेद होते हैं ?

किसी भी भाषा को सीखने लिखने अथवा पढ़ने के लिए उसके व्याकरण का ज्ञान होना अति आवश्यक है | हिंदी व्याकरण हिंदी भाषा की उत्पत्ति का क्षेत्र माना जाता है | हिन्दी व्याकरण का क्षेत्र बहुत बड़ा हैं ,जब आपको यह सभी हिस्सो का पता चल जाएगा, तो आपको हिंदी का पूर्ण ज्ञान हो जाएगा, कि उसे कैसे लिखना है ,या कैसे पढ़ना है, तो हम आपको आज यहां पर हिंदी व्याकरण की एक ऐसी ही क्षेत्र  के बारे में बता रहे हैं, जिसे विशेषण कहते हैं |

 विशेषण किसे कहते हैं?

 संज्ञा अथवा सर्वनाम की विशेषता बताने वाले शब्द विशेषण कहलाते हैं, जहां पर हम किसी चीज की विशेषता बताएं और वह संज्ञा और सर्वनाम की श्रेणी में आए, तो विशेष शब्दों को विशेषण कहा जाता है |

जैसे:-

 कोयल मधुर संगीत सुनाती है |

 रामा स्वादिष्ट खाना बनाती है |

 प्रकाश अच्छा खिलाड़ी है |

 मेरी गुड़िया सुंदर है |

 यहां पर वाक्य अनुसार मधुर स्वादिष्ट अच्छा सुंदर यह सभी विशेषण शब्द है, क्योंकि यह यहां पर संज्ञा और सर्वनाम की विशेषता बता रहे हैं, तो आपको पता चल गया होगा कि विशेषण किसे कहते हैं | आइए जानते हैं विशेषण के भेद कितने होते हैं?

 विशेषण के प्रकार या भेद

 विशेषण का अर्थ है, विशेषता बताने वाले शब्द | विशेषण के कुल 8 प्रकार होते हैं |

  • गुणवाचक विशेषण
  •   व्यक्तिवाचक विशेषण
  •   परिणामवाचक विशेषण
  •   संख्यावाचक विशेषण
  •   संकेतवाचक विशेषण
  •   विभागसूचक विशेषण
  •  प्रश्नवाचक विशेषण
  •   संबंधवाचक विशेषण

हमें यह तो पता चल गया कि विशेषण के कुल 8 प्रकार होते हैं | आइए अब विशेषण के इन भेंदों को विस्तार पूर्वक समझते हैं |

 गुणवाचक विशेषण

 संज्ञा या सर्वनाम के जिन शब्दों से गुण प्रकट होता है, उन्हें हम गुणवाचक विशेषण कहते हैं | गुणवाचक विशेषण के उदाहरण है जैसे  खट्टा ,मीठा लंबा काला खट्टा नमकीन चटपटा इत्यादि |

 गुणवाचक विशेषण के उदाहरण:-

 तालाब का पानी काला है |

 यह बिल्डिंग बहुत ऊंची है |

 समुंद्र का पानी खारा है |

 यहां दिए गए वाक्यों में ऊंची,काला और खारा यह सभी संज्ञा और सर्वनाम शब्दों के गुण के बारे में बता रहे हैं |  इसलिए इन शब्दों में काला ऊंची और खारा गुणवाचक विशेषण शब्द है | गुणवाचक विशेषण को पहचानने के लिए पूछना होता है ‘ कैसा |’

व्यक्तिवाचक विशेषण

वह शब्द जो व्यक्तिवाचक संज्ञा के द्वारा बनते हैं, व्यक्तिवाचक विशेषण कहलाते हैं, अर्थात वे शब्द जो व्यक्ति वाचन संज्ञा की विशेषता बताते हैं | उन्हें व्यक्तिवाचक विशेषण कहा जाता है, जैसे:-

  •  कानपुर से कनपुरिया 
  •  लखनऊ से लखनवी
  •  बिहार से बिहारी
  •  मद्रास से  मद्रासी
  • जोधपुर से जोधपुरी
  •  बनारस से बनारसी
  •  राजस्थान से राजस्थानी

            इत्यादि |

व्यक्तिवाचक विशेषण के कुछ उदाहरण और इस प्रकार हैं :-

 मुझे दक्षिणी भारतीय खाना पसंद है |

 मुझे हैदराबादी बिरयानी पसंद है |

 रमेश को मुगलई खाना अच्छा लगता है |

 रीना को गुजराती व्यंजन लुभाते हैं |

आपने ध्यान दिया होगा कि यहां पर दक्षिणी भारतीय:-, हैदराबादी, मुगलई और गुजराती यह सभी शब्द व्यक्तिवाचक संज्ञा से मिलकर बने हैं, और व्यक्तिवाचक संज्ञा की विशेषता बता रहे हैं |

परिणामवाचक विशेषण

परिणाम का अर्थ होता है, निष्कर्ष यानी वे शब्द जो किसी वस्तु की परिणाम या मात्रा को दर्शाते हैं, उन्हें परिणाम वाचक विशेषण कहा जाता है | जैसे:- आधा दर्जन, एक लीटर तेल , दो मीटर कपड़ा इत्यादि |

परिणाम वाचक विशेषण के कुछ अन्य उदाहरण है:-

 मुझे थोड़ी चीनी चाहिए |

 तुम्हारा वजन बहुत बढ़ गया है |

 मेरे पास बहुत कम समय बचा है |

 गाय थोड़ा दूध दे रही है |

परिणाम वाचक शब्दों को पहचानने के लिए पूछना होता है, ‘वजन में कितना |’

 संख्यावाचक विशेषण

वे शब्द जो संज्ञा या सर्वनाम शब्दों की संख्या के बारे में बताते हैं, उन्हें संख्यावाचक विशेषण कहते हैं |

 जैसे :-

 रमेश के पास पाँच आम है |

 शीला छह दिनों से भूखी है |

 वेदांत दस दिन से नहाया नहीं है |

 मोहिनी चार दिनों से बाहर घूमने गई है |

यहां पर पाँच , छह ,चार, दस सभी संख्याएं हैं, यानी आमो की संख्या है |

संख्यावाचक विशेषण के कुछ अन्य उदाहरण :-

 बाहर दो भैंस खड़ी है |

 अलमारी में बीस जोड़ी कपड़े रखे हैं |

 पार्किंग में चार गाड़ियां खड़ी थी |

 मुझे एक महीने के लिए बाहर जाना है |

 गीता एक वर्ष से कनाडा में रह रही है |

संख्यावाचक शब्दों को पहचानने के लिए पूछना होता है, ‘ कितना’ या ‘ कितने |’

संकेतवाचक विशेषण

अब तक हम  गुणवाचक विशेषण, व्यक्तिवाचक विशेषण , परिणाम वाचक विशेषण, संख्यावाचक विशेषण के बारे में जान चुके हैं | अब हम आपको संकेतवाचक विशेषण के बारे में बता रहे हैं |

 वे शब्द जो संज्ञा अथवा सर्वनाम की विशेषता संकेतों के माध्यम से बताते हैं, उन्हें हम संकेतवाचक विशेषण कहते हैं | इस विशेषण के उदाहरण हैं|

 जैसे:-  धीरे:-, तेज, मध्यम, हल्का, मेहनत इत्यादि |

आइये संकेतवाचक विशेषण को इस प्रकार भी समझते हैं, जैसे

  • अगर तैयारी अच्छी होती तो सिलेक्शन हो जाता |
  •  अगर अच्छे से याद करते तो परीक्षा में पूरे नंबर मिलते हैं |
  •  सड़क पर गाड़ी धीरे चला नहीं चाहिए |
  •  हॉर्न तेज नहीं बजाना जाना चाहिए |

संकेतवाचक विशेषण को सर्वनामिक विशेषण भी कहा जाता है |

विभागसूचक विशेषण

वे शब्द जो किसी वस्तु या व्यक्ति के वर्ग को प्रकट करते हैं, वे विभागसूचक विशेषण कहलाते है |

 उदाहरण के लिए प्रत्येक दिन, हर बच्चा, या तो चम्मच या काटा ,कोई भी सलाह नहीं इत्यादि |

यहां पर प्रत्येक ना ना ही शब्दों के तुरंत बाद संज्ञा या सर्वनाम का इस्तेमाल किया गया है | इसीलिए इसे विभाग सूचक विशेषण कहा जाता है, क्योंकि यह शब्दों को वर्गों में बांट रहा है |

 विभाग सूचक विशेषण के कुछ अन्य उदाहरण इस प्रकार हैं |

 प्रत्येक बच्चे को अपनी सीट पर बैठना चाहिए |

 तुम्हारी कोई भी बात सही नहीं है |

 हर लड़की को बराबर अधिकार मिलने चाहिए |

 सभी लड़कियों को खुश रहना चाहिए |

प्रश्नवाचक विशेषण

ऐसे शब्द जिनसे संज्ञा और सर्वनाम की पहचान की जाती है, उन्हें प्रश्न वाचक विशेषण कहा जाता है | जैसे कौन, कहां ,कब, कैसे, इत्यादि | इस प्रकार के विशेषण शब्दों का इस्तेमाल करने से हमें संज्ञा और सर्वनाम के बारे में जानकारी प्राप्त होती है |

 उदाहरण के लिए

  •  वह व्यक्ति कौन था ?
  •  सुरेश क्या कर रहा है ?
  •  राधा कहां जा रही है ?
  •  खाना कैसे बनाया जाता है ?

 इन सभी वाक्यों में कोई ना कोई प्रश्न पूछा जा रहा है | जिसका उत्तर आसानी से दिया जा सकता है |

संबंधवाचक विशेषण

वे विशेषण शब्द जिनका इस्तेमाल किसी भी वस्तु या व्यक्ति के एक दूसरे से संबंध को दर्शाने के लिए किया जाता है, या ऐसे विशेषण शब्द जिनका इस्तेमाल किन्ही दो चीजों के बीच में संबंध को बताने के लिए किया जाता है | उन्हें संबंध वाचक विशेषण कहा जाता है | इस प्रकार के विशेषण में अंदरूनी शब्द का इस्तेमाल क्रिया विशेषण को व्यक्त करने के लिए किया जाता है |

उदाहरण के लिए

 पेट के अंदरूनी हिस्सों में चोट लगी है |

 मंगल ग्रह का भीतरी इलाका बहुत गर्म है |

 सुबह से ही बाहर बारिश हो रही है |

हम उम्मीद करते हैं कि हमने आपको विशेषण और उसके भेद से जुड़ी सभी जानकारियां सही-सही दी होंगी  |

Leave a Comment